Two Line Shayari by Rony

❤…ना ही मैं कबीर हूँ,ना ही में रहीम हूँ,*_

दीवाना हुँ शायरी का, बस ज़ख्मो से मैं अमीर हूँ…❤

 

❤…मुहब्बत करने से फुर्सत नहीं मिली यारों,**वरना हम
करके बताते नफरत किसे कहते हैं…❤
❤…जनाब मुजे मत सिखाओ मोहब्बत कि बाते,
जिन किताबो से तुमने मोहब्बत सिखी हे, वो किताबे हमने लिखी हे…❤
❤…सुना है तुम्हारी एक निगाह से कत्ल होते हैं लोग..
एक नज़र हमको भी देख लो.. ज़िन्दगी अच्छी नहीं लगती…❤
❤…मौत भी मुझे गले लगाकर वापिस चली गई बोली…
तुम अभी नही मरोगे प्यार किया है ना अभी और तडपोगे…❤
❤…थम सी जा तू भी ए जिंदगी अब।
वो ही जा चूका जिसके लिए तू चलती थी।…❤
❤…एहसास तो उसको भी बहुत है मेरी मुहब्बत का,
वो तड़पती इसलिए है की मैं और  टूट के चाहूं उसे…❤
❤…टूटना ही लिखा हो मोतियों की किस्मत में।
तो धागा कितना मजबूत है फर्क नहीं पड़ता।…❤
❤…याद नहीं आई आज तुम्हें मेरी…
क्या महोब्बत में भी रविवार होता है… …❤
❤…ये सोचकर हमने ख़ुद को बेरंग रखा है !
सुना है सादगी ही मोहब्बत की रूह होती है !!…❤
❤…जब रूह में उतर जाता है बेपनाह इश्क का समंदर,
लोग जिंदा तो होते है मगर किसी और के अंदर …❤
❤…अजीब दस्तूर है, मोहब्बत का;
रूठ कोई जाता है, टूट कोई जाता है।…❤
❤…हाल तो पूछ लूँ तेरा पर डरता हूँ आवाज़ से तेरी;
ज़ब ज़ब सुनी है कमबख्त मोहब्बत ही हुई है।…❤
❤…कर रहा था गम-ए-जहान का हिसाब;
आज तुम याद बेहिसाब आये।…❤
❤…यूँ तो मशहूर हैं अधूरी मोहब्बत के किस्से बहुत से;
मुझे अपनी मोहब्बत पूरी करके नई कहानी लिखनी है!…❤
❤…दगा दे जाये उसे यार नहीं कहते,
ख़ुशी न दे उसे बहार नहीं कहते,
बस १ बार धड़कता है दिल किसीके लिए,
जो दुबारा हो उसे प्यार नहीं कहते !…❤
❤…तुमसे ऐसा भी क्या रिश्ता हे?दर्द कोई भी हो.. याद तेरी ही आती हे।…❤
Advertisements

Ek aas, ek ehsaas, meri soch aur bs tum, by Rony Chahal

Ek aas, ek ehsaas, meri soch aur bs tum,

Ek sawal, ek majaal, tumhara khayal or bs tum,

Ek baat, ek shaam, tumhara sath or bs tum,

Ek dua, ek faryad, tumhari yaad or bs tum,

Mera junoon, mera sukoon bus tum or bs tum

by – RONY CHAHAL